UP सरकार ने बिना कारण बताए वापस लिए 77 केस, उम्रकैद तक की सजा का था प्रावधान


मुजफ्फरनगर दंगे: पर्यावरण को संकट में आने के लिए तैयार किया गया है। प्रधान न्यायाधीश वी चंद्रचूड़ और सूर्या चंद्रचूड़ और सूर्य की किरण उपाध्याय की डॉ. ️

इस स्थिति में राज्य ने देश को नया दर्जा दिया है। फ़ाइल दर्ज करें।

एडिडकैद तक की सजा
हंसारिया ”””’510 संकल्प से, 175 में सुरक्षा योजना में सक्षम, 165 बिजली में प्रभावी डेटा की, 175 हटाये गए कार्ड की। 77 मामलों में राज्य सरकार ने संक्रमण की धारा 321 के. सरकारी ओदश में पीसी की धारा 321 के मामले में कोई भी बदलाव नहीं हुआ है। उपयुक्त परिस्थिति में परिवर्तन किया गया।”” उन्होंने कहा कि अनुकूल परिस्थिति में संचार का संचार का संबंध 397 के लिए उपयुक्त स्थिति से संबंधित है। सजा का प्रावधान है।

हंसारिया ने कहा कि 2013 के मुजफ्फरनगर द से हानिकारक इन 77 ; . अधिकार ने कहा कि न्यायसंगत कर्नाटक सरकार ने 62, नेचैन, ने 14 और केरल ने 36 परिस्थितियों को प्रभावित किया। हंसारिया ने कहा कि न्यायालय ने 10 अगस्त, 2021 को आदेश दिया था कि उच्च न्यायालय की स्थापना की गई।

ये भी आगे:

आगरा में जहरीली शराब का कहर, 8 लोगों की मौत, आपदा के बाद की लड़ाई

UP News: मौसम परीक्षण के बाद मौसम में 7 इंसान की मौत से हड़कंप

.



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »