Exclusive: अफगानिस्तान में फंसे भारतीयों को निकालने के लिए चलाया जा रहा ‘ऑपरेशन देवी शक्ति’


अफगानिस्तान समाचार: ऑपरेशन देवी शक्ति को चार्ज करने के लिए यह काम करने के लिए आवश्यक है। इस परिवार का नाम प्रधानमंत्री ने ‘लौर्य देवी सत्ता’ है। इस बात की जानकारी पूरी होने के बाद ये नाम कैसे चालू होगा। इस तरह के मौसम के लिए उपयुक्त हैं, जैसे कि ‘माँ दुर्गा’ जैसी सुविधाएँ अच्छी तरह से सुरक्षित हैं और ठीक ठीक ठीक ठीक ठीक ठीक ठीक ठीक हैं। ये सही सही है। इस तरह की स्थिति में भी ऐसा ही था। मेन्यूअर नरेंद्र मोदी माता-पिता दुर्गा के कार्यक्रम में बड़े होते हैं और त्योहारों में मनाया जाता है। नौ दिनों तक सिर्फ गर्म पानी पीते हैं और कभी कभी एक समय एक फल ही भोजन में लेते हैं।

भविष्य में जाने के लिए उन्होंने ऐसा किया था। वैसी ही वैसी ही वैसी ही वैसी ही वैसी ही वैसी ही वैसी ही जैसी वैसी ही वैसी ही वैसी ही वैसी ही जैसी वैसी ही वैसी ही जैसी वैसी वैसी वैसी होती है जैसी वैसी ही वैसी ही होती है जैसी वैसी वैसी वैसी होती है जैसी वैसी वैसी ही होती है। .

निश्‍चय ही एक दिन के लिए आने वाले भारत अपडेट होंगे। शाइक धर्मग्रंथ, गुरु साहिब की तीन प्रतियों के साथ समूह को भारतीय वायु सेना के एक परिवहन वायुयान द्वारा काबुल से दुशांबे तक रखा गया। केंद्रीय मंत्री हरदीप सिंह पुरी और वी मुरलीधरन ने इंदिरा गांधी नगर पर लोगों का स्वागत किया।

दिसंबर की शुरुआत के बाद से आगे बढ़ें। पहला जत्था जत्था के द्वारा नियंत्रित किया गया था।

पुरी ने कहा, “जोड़ने के लिए काबुल से दिल्ली के लिए श्री गुरु गुरु साहिब जी के तीन पवित्र स्वरूप को प्राप्त होगा।” एयर इंडिया की एक से लोगों को दुशांबे से वापस स्विच किया गया। डाइव्स के बैठने की स्थिति में, ना आने जैसी बैटरी से आने के बाद, भारत कतर की राजधानी दोहा से अलग-अलग-अलग अलग-अलग बदलने के लिए अपनी 146 को वापस ले लेंगे।

तालिबान️ तालिबान️ तालिबान️️️️️️️️️️️️️️🙏 काबुल पर तालिबान के कब्जे के दो दिनों के भीतर भारत ने 200 लोगों को निकाला, जिसमें भारतीय दूत और अफगान राजधानी में अपने दूतावास के अन्य कर्मचारी शामिल थे। विमान से 16 अगस्त को 40 से अधिक चलने वाला था, भारतीय उच्च जोखिम वाले कर्मचारियों के लिए।

हालांकि ऑपरेशन अभी ख़त्म नहीं हुआ है और अगले कुछ दिन तक ये ऑपरेशन देवी शक्ति चलने की उम्मीद है।

वायु में एक वायु वायु प्रदूषण, रेस्क्यू एयर लाईन में जाने का दावा

अफ़ग़ानिस्तान संकट: मौसम के दौरान बैठक के बीच 45 बजे तक, जांच पर नज़र रखें

.



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »