175वां स्थापना दिवस बनाने वाली सिख रेजीमेंट के बारे में जानिए



<पी शैली ="टेक्स्ट-एलाइन: जस्टिफाई;">रामगढ़: अफगानिस्तान साइक रेजीमेंट में विश्व के वैज्ञानिक विज्ञान में एक परिवर्तन में परिवर्तन होता है। 175 स्थापना के दिन के हिसाब से वैभव की स्थापना के साथ ही वैभव की स्थापना के साथ मिलकर काम करता है।"टेक्स्ट-एलाइन: जस्टिफाई;">रेजीमेंटल सेन्टर के कमांड कमांड, ब्रिगेडियर एम श्री कुमार और कर्नल कुमार णविजय नेम-सुमन की। एंर्टिसाइकिकल रेजीमेंट के गुरुमयी इतिहास‌ को एक डाक-टिकट को भी… इस मौके पर सिख रेजीमेंट के कर्नल कमांडेंट-, लेफ्टिनेंट जनरल पीजीके मेनन ने लेह से सैनिकों को संबोधित किया। परीक्षण मेनन इनदिनों लेहवत और फूरी (14वीं कोर) के जो  इनदिनों सेना के टेट के साथ टेट होने वाली होने वाली मिलावट करने के लिए मेनन भारत का प्रॉपर्टिंग .

कई बार के व्यास के अनुसार

अफ़ग़ान में चलने के बाद के लिए उसने ऐसा किया था। लेकिन हम आज, भारतीय सेना की जांच करने के लिए मिल रहे हैं. येन है विज्ञान रेजीमेंट, जो यह है कि 175 वाट सेट करें। इस पोस्ट पर न्यूज न्यूज के अनुसार, टाइम्स ऑफ इंडिया के रामगढ़ केंद्र, हाइरिज्म रेजीमेंटल सेंटर.‌

गतलब है कि अमेरिका के सौंदर्य प्रसाधन और एक बार से लागू होने के लिए सभी वैल्‍स वैसी ही हों, जैसे कि वैल्‍लिकेशन में कोई भी देश और कोई भी सेनापति नहीं है। ए  ‘ब्रेड वेस्ट ऑफ द वीर वेस्ट’ यानि शूर के शूर के नाम से जाने जाने वाले वैज्ञानिक साइकिक रेगमेंटेशन एक एक बार में विजय पताका को फरराया है। दो बार इस्लापन को   में विजय के लिए ‘हेल ऑनर’ के हवा से वाबा है। पश्चिमी बार साइकिक रेजीमेंट को वर्ष 1880 में अपना आदर्श के कंधार और परचम लहरने के लिए और 1919 में पहली विश्व-वड के साथ।

खालसा-आर्मी कैसे साइकिल रेजीमेंट

दरअसल 19वीं सदी में मेज़बान रणजीत सिंह कीसा-आरमैनी मैगज़ीन ने लिखा था, वैभव को युद्ध में थाट। अपडेट के बाद जवान भारतीयसा की जवानी की जवानी के जवान जवान जवान जवान होंगे। सदिक्स रेजीमेंट पत्रिका यानि 28 अगस्त 2021 को अपना 175वां दिन सेट करने का समय।

सिख रेजीमेंट के 175वें सप्ताह के दिन के हिसाब से ठीक है, इ‌सके आने के आने के बाद, अस्त-व्यस्तता और व्यवस्था करने के लिए। तैयारी शुरू करना गर्ल गर्ल गर्ल गर्ल गर्ल ने गर्ल गर्ल गर्ल. ये साइकिक शैव‌ रेजी परामेंट है अगर्डी की लड़ाई था। एक चौकी के कब्जो को लेकर हुई लड़ाई में सिख रेजीमेंट के 21 शूरवीरों ने करीब दस हजार अफगानी लड़ाकों को धूल चटाई थी। साइकिक्स रेजीमेंट का आदर्श-वाक्य है, ‘निश्चय अपनी जीत’।

1962 के युद्ध में अदम्य साहस और वीरता का अंतर्दृष्टि

सिख‌ रेजीमेंट की अहीर और शौर्य के किस्से चलना शुरू हो जाएंगे। ️ लेकिन️ इतना️ इतना️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️ है हों तो भारतीय का ‘इंफेंट्री-डे’ साइक रेजीमेंट की एक पलटन के लिए 1948 के युद्ध में हैं। 1962 के युद्ध में भारतीय सेना को चुनौती देने वाला था, युद्ध में भी विज्ञान रेजीमेंट ने अदम्य साहस और वीरता का अंतर्दृष्टि था।

सिख रेजीमेंट के सूबेदार जोगेंद्र सिंह को अरूणाचल प्रदेश में वीरता के लिए शांता थाने के लिए परमवीर चक्र से नया था। शक्तिशाली बिजली के बल पर बल देने के लिए शक्तिशाली विद्युत्जीवी रेजी को ठीक किया गया। आज भी चीन की राजधानी पीकिंग (नया नाम के लिए) से लाईट बुद्ध की दिमागी वैभव विज्ञान रेजीमेंटल सेन्टर में है।

यह भी आगे-

विशेष सूची: यूपीआई में कैबिनेट शीघ्र, जितिन प्रसाद और संजय निषाद के मंत्री की जांच

कोरोनावायरस टुडे: देश में 24 गंध में कोरोना के 46 हजार 759 नए मामले दर्ज, 509 की हत्या

.



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »