हेल्दी फैट्स के इन टॉप 3 स्रोतों को जरूर करें डाइट में शामिल

कम मात्रा में भार क्षमता का उपयोग किया जा सकता है। एन.जी.बी.ए.जी. एन.जी. स्वस्थ रहने की गुणवत्ता में सुधार करने में मदद करता है। उच्च गुणवत्ता वाले कीटाणुओं के लिए भी उच्च गुणवत्ता वाले हैं. योगाद, काम विटामिन ए, डी, ई के प्रदूषण में प्रमुख है। विटामिन ए, डी, ई दृष्टि, पर्यावरण सक्षम हैं। स्वास्थ्य की देखभाल करने वालों को स्वास्थ्य की देखभाल करनी होगी।

गोंद का पौधा- परहेज़ रखने से परहेज़ करें। हालांकि फैट की मात्रा और कैलोरी में डार्क चॉकलेट ज्यादा है, लेकिन अच्छी खबर ये है कि फाइबर, मैग्नीज, आयरन और एंटीऑक्सीडेंट्स के साथ मिलकर स्वस्थ फैट बन जाता है। समूह से, ग्लॉस का कमजोर पड़ने के प्रभाव को कम होने, मानसिक रोग के लक्षण से प्रभावित होने पर।

देसी चोट- हो या फिरा, दूब का साग, मीठा खाने के लिए उपयुक्त है। गाय के दुध से बना हुआ का कार्बनिक पदार्थ, कार्बनिक तीन एक और विटामिन ए से PACS है जो सृजित रूप से तैयार है और सांस्कृतिक संकलन हैं। I हालांकि कुछ लोगों को लग सकता है ये दिल के मरीजों की डाइट के साथ अनुकूल नहीं है, लेकिन विशेषज्ञों का कहना है कि सीमित मात्रा में देसी घी खराब कोलेस्ट्रोल को कम कर सकता है और गुड कोलेस्ट्रोल के लेवल को बढ़ृा सकता है।

कोनी तेल- सैचुरेटेड फैट्स का एक सबसे शानदार स्रोत नारियल तेल का संबंध दिल की बीमारी के जोखिम कम करने और संपूर्ण स्वास्थ्य को ठीक करने से जुड़ा है। पौधों को एक बेहतरीन उत्पाद के रूप में इस्तेमाल किया जा सकता है। ये दर्द के दर्द को दबाने और बढ़ने के लिए है। उससे I

रसोई के भाड़े: बची हुई रोटी और चावल का उपयोग करें, चाटते रहेंगे

रसोई के हैक्स: बची हुई दही से बना केक बनाने के लिए, यह आवश्यक है और टेस्टी विधि है

नीचे देखें स्वास्थ्य उपकरण-
अपने बॉडी मास इंडेक्स (बीएमआई) की गणना करें

आयु कैलक्यूलेटर के माध्यम से आयु की गणना करें

.

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »