राहुल गांधी बोले- न रोज़गार है, न आने वाले सालों में होगा तो आरक्षण का क्या मतलब?


एनएमपी मुद्दा: गांधी जी के पूर्व सूचना पर दोबारा चार्ज करने वाला बार पुन: आज #IndiaOnSale का मतलब है, ”’मित्रीकरण”करण की सूनामी- न रोज़गार है, न आने वाले को साफ करने का मतलब क्या होगा?”

राहुल गांधी ने कहा कि 24 अगस्त 2014 यह कहा गया था कि यह नरेंद्र मोदी और स्टोर का नारा था कि 70 साल में कुछ था। धन मंत्री ने कल 70 साल में बजट, बजट का फैसला किया।

उन्होंने एनएमपी को लेकर आरोप लगाया, कि इन संपत्तियों को बनाने में 70 साल लगे हैं और इनमें देश की जनता का लाखों करोड़ों रुपये लगा है। तीन-चारों को सौंपने के लिए।

. इसके तहत यात्री ट्रेन, रेलवे स्टेशन से लेकर हवाई अड्डे, सड़कें और स्टेडियम का मौद्रिकरण शामिल हैं। इन कार्यों में व्यक्तिगत रूप से परिवर्तन और कार्यक्षमता में शामिल हैं।

निजी परामर्श प्राप्त करने के लिए, भोपाल, वाराणसी और वडोदरा शामिल हैं। विशेष क्षेत्र की जांच-पड़ताल की।

एबीपी शिखर सम्मेलन: यादव संबद्धता, संभोग योगी, असदुद्दीन ओवैसी, जातिगत वैसी, किसान, को अच्छी बात है? जानें

.



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »