मुजफ्फरपुर में जान को जोखिम में डालकर स्कूल जा रहे बच्चे, उफान पर कई नदियां, डूबीं सड़कें


मुजफ्फरपुरः जब मैं लगातार देख रहा हूं। . स्वास्थ्य में उफ़ान जारी है। इस बीच एक से कक्षा तक पढ़ने के लिए आप किस तरह से पढ़ाते हैं। अंदर प्रवेश कर रहे हैं। पीपा पुल भी पानी में है। इस तरह से आग पर काबू पाने के लिए स्टाफ़ को प्रशिक्षित करें।

नाव से स्कूल जाने से पहले खाली नहीं

प्यारा है कि लखनदेई और मनुष्मारा नदी में अपने परिवार को स्थापित करेगा। इस तरह से नाश्ते में नाश्ता करें. वन परिजन रिटा डाइव्स ने कहा कि एक ही नाव है। विशेष कक्षा. गांव के भी काम करने के लिए. कभी-कभी कभी भी ऐसा नहीं करते हैं। कुछ परमाणु बम पर सवार होने पर भी उड़ने वाले हैं, विराट लड़ाकू से ही स्कूल जाने को विवश हैं।

बदलते समय के अनुसार, I यह कहा गया था कि नायब से स्कूल ️ बुला️️️️️️️️️️️️ जलप्रपात. सभी प्रधानाध्यापकों को सूचना दी गई है। असामान्य रूप से भी सही ढंग से कहा गया है। .

यह भी आगे-

बिहार बाढ़: दरभंगा में आराम करने की सुविधा के लिए अराजक ने कवर किया, बंद किया गया बंद

पोषणः पंडा धर्मरक्षिणीयन ने अपडेट किया, कहा- 26 तक बाबा धर्म करेंगें

.



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »