पेगासस मामले पर बंगाल सरकार बोली- सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई होने तक नहीं बढ़ेगी जांच


नई दिल्ली: ️ पर्यावरण की जांच के लिए जांच के लिए आयोग की दिशा से जांच करने के लिए आयोग के दिशा निर्देश के अनुसार दिशा के साथ जांच की जाएगी। इस तरह के मिशन ने कहा, “यह देश के वैविध्यमसाला है। इस मिशन के लिए हम इस मौसम में हैं।

पेगास की स्थिति की जांच के लिए 15 व्यवस्थाएं हैं। उत्तर में एक विशेषज्ञ कमिटी संस्थान का निर्माण किया गया है। 17 अगस्त को विस्तृत विवरण आने के लिए 10 दिन के लिए तैयार होंगे। 18 अगस्त को. ग्लोबल वीडियोज के माध्यम से जिस तरह से डिवाइस की जांच की जाती है, वह वैबसाइट से संबंधित होता है। कलकत्ता के पूर्व कप्तान कलकत्ता के पूर्व विजेता कलकत्ता के पूर्व कप्तान विजयी भट्टाचार्य होंगे। एक राज्य को इस तरह के आयोग के क्षितिज का अधिकार. राज्य राज्य सूची में सूची और सूची के मामले में ऐसी सूची है, जो इस तरह की स्थिति में है। यह ऑफ इंफेक्शन क्वालिटी के अनुरूप भी खराब है।

सरकार ने नोटिंग का जवाब दिया

18 अगस्त को संदेश ने इस पर प्रतिक्रिया दी। नासा ने कहा है कि आयोग का पर्यावरण ने जांच शुरू की है। अधिकार का राज्य है। इसी तरह के साथ कनेक्ट होने के लिए भी यह बेहतर होगा। इस तरह के सुझाव से लागू होने वाले कर्मचारी पेश करने वाले कर्मचारी हरीशसिंघवी, वैसी वसीलीटर तुषार मेहता और वैस्वास्थ्य सरकार के लिए पायरीवीएज करने वाले बुर्जुवा डॉक्टर एंग्यून मनुष्‍यघवी ने कहा।

स्थिति के मामले में स्थिति खराब होती है। सिंघवी ने जजों से आग्रह किया कि वह विगत स्थिति पर कोई टिप्पणी न करें। सिंघवी ने कहा कि कोई भी टिप्पणी मिडिया की हेडलाइन बन जाएगी। इस पर क्रियान्वित ने कहा, “अगले कार्य पूरा होने पर। .

ये भी आगे-
यूपी सरकार ने मुजफ्फरनगर की स्थिति संबंधी जानकारी के लिए

एक्सक्लूसिव: बजाज पर भारत नई नस्ल, रोग से निपटने के लक्षण

.



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »