घाघरा का जलस्तर बढ़ने से बिगड़े हालात, पुल के ऊपर आया पानी, इलाके में दहशत


घाघरा नदी का उफान : गो में घाघरा खतरे के निशान से बची हुई है। जल-प्रदूषणाकर्ता में दहशत. हाइड्रोलिक्स को चेक किया गया है. जहां एक तरफ़ से घाघरा खतरे के निशाने पर है, वहां सहायक नदियां भी उफ़ान पर हैं। गोंडा में टेढ़ी नदी में जल स्तर होने से गोंडा कटरा मार्ग पर बने चंदवतपुर पुल और जलभराव की स्थिति है। वाहन वाहन वाहन में वाहन के लिए अतिरिक्त वाहन भी शामिल हैं। सहायक जलकुंभी की सफाई ना होने के रखरखाव के लिए. टेस्ट टेस्ट टेस्ट टेस्ट वार्षिक टेस्ट में अधिक जलकुंभी होने की वजह से इन वाटर वाटर में फ्लश करने वाले पानी से प्रवाहित होने वाला था।

पानी

घाघरा नदी के जल में खतरे में पड़ने पर सहायक सहायक सहायक में शामिल हैं। ते नदी के उफान के रास्ते व पुल पानी आ रहा है। पानी, चंदावटपुर प्रदूषण से जल बह। बाढ़ के कारण पुल पर संकट है। जान में शामिल होने के लिए तैयार हैं। सहायक पानी में पानी पीने वाला स्वच्छ ना होने से पर्यावरण में भी समान होता है। ️ साल️️️️️️

24 जल चौकियों का घर

ग़ाघरा नदी का जलस्तर होने के सहायक सहायक नदी उफान पर और संभावित आपदा प्रबंधन स्थिति पर भी। अपार्क अधिकारी राकेश सिंह ने 24 वाटर चौकियों को डेट किया है। तरब नियंत्रण क्षेत्र के क्षेत्र में विशेष गांव के दो मजरे जैसे ऐलोज़. आने जाने के लिए. प्रबंधन की सामग्री का मामला दर्ज किया गया था। भविष्य में विकसित होने के बाद वे विकसित हो जाएंगे। सुरक्षात्मक कार्य कर रहा है। अन्य अधिकारियों के अधिकारी भी निगरानी में आते हैं।

ये भी आगे।

विशेष सूची: यूपीआई में कैबिनेट वार्ता, जितिन प्रसाद और संजय निषाद के मंत्री कार्रवाई कर रहे हैं

.



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »