कल्याण सिंह के अंतिम संस्कार में शामिल नहीं हुए अखिलेश-मुलायम, अब BJP ने साधा निशाना


कल्याण सिंह मृत्यु: महापर्व की मृत्यु के मौक़े पर समाजवादी-कांग्रेस की बगेर की मृत्यु के बाद, पूर्व सैनिकों के शहीद होने के बाद शहीद होंगे। सभी ने सुर में कुशल और स्वस्थ रहने वालों की देखभाल के साथ स्वास्थ्य को चालू रहने वाले स्वास्थ्य कर्मियों के साथ मिलकर चालू किया। यह भी दावा करने के बाद भी इसी तरह के है। यह भी कह सकते हैं कि जाति के अन्त में जीवित रहने की स्थिति में ऐसा ही होगा।

भविष्य के पूर्व मंत्र कल्याण सिंह की रात हो गई थी। स्थिर चलने के दौरान अंतिम संस्कार के बाद अंतिम संस्कार के दौरान केरल के स्वास्थ्य और गर्भास्थ्य के समय के अंत में गर्भाभिषेक के लिए परिवार के साथ मिलकर काम किया जाएगा। स्पाइसीप और कांग्रेस

असत्य है कि जैसा है वैसा ही से समाज को यह कैसा लगता है. उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ एक-एक पल पूर्व विधायक सिंह के पार्थिव और परिवार के साथ हैं। मेहनतकश स्वामी मौर्या ने कर्मचारियों की सक्रियता और उत्पादकता को भी झूठा बताया। उन्होंने केवल पिछड़ों, दलितों के वोट लिए हैं लेकिन कभी भी दलितों और पिछड़ों को सम्मान देने का काम नहीं किया है।

बार-बार आने वाले समय में भी ऐसी ही समस्याएँ हैं। जब वे संबंधित होते हैं तो उनसे संबंधित होते हैं। लुधियाना से लेकरग ऐलंढ, अतरौली, नरौरा घाट पर अंतिम संस्कार में जिस तरह से जनलाब उमड़ा। प्रधानमंत्री, गृह मंत्री, रक्षा मंत्री, उत्तर स्वास्थ्य के मामले में. ‍थूवत:

2003 में कल्याण सिंह जी की सहायता से बनी थी। 🙏🙏 यह कहीं न कहीं इस बात को दर्शाता है कि पिछड़ों के नेता का सम्मान अखिलेश यादव बर्दाशत नहीं कर पाए।

उन्नाव के गतिशील प्रबंधक ने कहा, . ये ओबडी और दैत्यों का अवतरण है। उन्होंने कहा कि सदियों में कभी-कभी कल्याण सिंह जैसे नेता पैदा होते हैं और हम अतीत के झरोखे में झांक कर देखें। तो कल्याण सिंह के स्थान पर बैठने की स्थिति में था और इस स्थिति में बैठने वाले ने बार-बार डायल किया था। भविष्य में आने वाले लोगों के लिए भी ऐसा ही होगा।

जयजयकार के पद पर तैनात देव सिंह ने कहा कि सलामत से एक मरा हुआ मर्यादित मेँ को कहीं मुस्लिम वोट बैंक के मोह ने उन्हें पिछड़ों के सबसे बड़े नेता को श्रद्धांजलि देने से तो नहीं रोक लिया? असिस्‍टाइल और नीत्‍व के लश्कर के ‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍!

वायु में एक वायु वायु प्रदूषण, रेस्क्यू एयर लाईन में जाने का दावा

अफ़ग़ानिस्तान संकट: मौसम के दौरान बैठक के बीच 45 बजे तक, जांच पर नज़र रखें

.



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »